Header Ads

  • ताजा खबरें

    महाराष्ट्र में मराठीयों के साथ अब परप्रांतियों की दादागिरी नही चलेगी !

    कौन कहता है मनसे पार्टी बेवजह पिटती है? 

    कई सालों से पिडीत के 17 लाख रुपये ठगनेवाले राजू शेट्टी ने 5 मिनट में दे दिया पुरा पैसा

    With the Marathi in Maharashtra, the grandfather's grandfather will no longer be!
    विरार (महाराष्ट्र विकास मिडिया)- मुंबई में रहनेवाले हिंदी भाषियों की पिटाई एवं ठुकाई करने के वारदातों से महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना हमेशा सुर्खियों में रही है। लेकिन मनसे के मनसैनिक आखिर मारते क्यों है इस सवाल का जवाब आपको विरार के घटना से जल्द ही पता चल जाएगा। क्योंकि मनसे की मदत से कैंसर पिडीत का ठगा हुआ 17 लाख रुपये उन्हे आज वापस मिला है जिसके कारण उन्होंने पार्टी एवं पार्टीके हायकमांड राज ठाकरे के आभार माने।
    बता दें कि, विरार पूर्व में रहनेवाले बुजुर्ग श्री. सुर्यवंशी को कुछ साल पहले अच्छी किमत में घर दिलाने का वादा करके कर्नाटका से महाराष्ट्र में आकर अपना व्यवसाय करनेवाले राजु शेट्टी इस बिल्डरने ने 17 लाख रुपये का डी.डी. ले लिया था। उसके बाद उस जमिन पर घर तो बना लेकिन शेट्टी ने उसके जाली कागजात बनाकर उसे दुसरे को बेच दिया। इसके बाद श्री. सुर्यवंशी ने कई बार बिल्डर राजू शेट्टी से अपने पैसों की मांग की लेकिन हर बार शेट्टी पैसे देने से मुकर जाता था। पिडीत ने इसकी शिकायत विरार पूर्व पोलिस थाने में दर्ज कराने की बडी कोशिश की लेकिन भ्रष्ट पोलिस अधिकारी एवं कर्मचारीयों ने पिडीत का एक ना सुनकर शिकायत दर्ज करने से साफ मना कर दिया। विशेष बात तो यह है कि, यह बुजुंर्ग जिन्होंने अपने पुरे जीवन की जमा पुंजी ठग बिल्डर को दे दी थी उनहे कैंसर की बिमारी है, तथा उनकी पत्नि भी कई बार बिमार होने के कारण उनके और उनके पत्नि के ईलाज तक के लिए श्री. सुर्यवंशी के पास पैसे नहीं थे। ऐसे में उन्हे एक व्यक्ति ने महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के नितीन नांदगावकर के जनता दरबार में अपनी समस्या बताने की सलाह दी। जिसके बाद श्री. सुर्यवंशी ने जनता दरबार में नितीन नांदगावकर को पुरी समस्या बताकर ठग बिल्डर राजु शेट्टी का फोटो भी सौंपा।
    नितीन नांदगावकर ने हरबार कि तरह इस बार भी परप्रांतीय किसप्रकार महाराष्ट्र राज्य के मराठी भाषिय लोगों को फसाकर उनके साथ दादागिरी करते है इसका व्हिडीओ बनाकर सोशल मिडिया में पोस्ट किया। जिसके बाद विरार पूर्व के मनसे एवं दुसरे पक्ष के कार्यकर्ताओं ने राजू शेट्टी इस धोकेबाज बिल्डर की पुरी जानकारी दी।
    कल दि. 12 फरवरी को मनसेके पालघर जिला अध्यक्ष अविनाश जाधव अपने मनसैनिकों के साथ राजु शेट्टी के कार्यालय पहुंचे तथा उन्होंने एक कैंसर पिडीत को क्यों ठगा ऐसा सवाल पुछा। मनसैनिकों का गुस्सा देखकर धोकेबाज बिल्डर ने अपनी पुरी कर्तुक खुद के मुह से कहकर कबुल किया कि श्री. सुर्यवंशी से उन्होंने पैसे लिए है जो आजतक उन्हे वापस नहीं किए। एक मराठी बुजुर्ग तथा कैंसर के मरिज के साथ इतनी बडी साजिश करने की वजह से क्रोधीत हुए मनसैनिकों ने जमकर राजू शेट्टी की पिटाई ठुकाई की। अंत में राजू शेट्टी ने उस बुजुर्ग के पुरे पैसों का चेक मनसे के अविनाश जाधव को देकर माफी मांगी।
    जो काम पुलिस को करना चाहिए वह काम आज महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना कर रही है। कुछ लोग जरुर कह रहे होंगे की कानून हात में लेकर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेनाने मारपीट पर नहीं उतरना चाहिए लेकिन जब पुलिस खुद अपराधीयों को बचाने का काम करती है, पिडीत व्यक्ति की शिकायत दर्ज नहीं करती है ऐसे में मनसैनिकों के पास दुसरा कोनसा रास्ता है जिससे वे महाराष्ट्र राज्य के मराठी भाषिक नागरिकों की समस्या सुलझाए। जो पैसे धोकेबाज बिल्डर ने पिछले कई सालों से पिडीत मरिज को उनके हक्क का पैसा नहीं दिया उसी शेट्टी ने मनसे के ठुकाईके बाद 5 मिनट के अंतर फसाकर लियाहुआ पुरा पैसा चेक स्वरुप वापस किया है इस बात को अनदेखा करकर कैसे चलेगा ऐसा लोगों का कहना है।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad