Header Ads

  • ताजा खबरें

    स्कुल में जानेवाले बच्चे का दस करोड फिरौती के लिए अपहरण ; पुलिस ने 3 संदिग्ध अपराधीयों को धरदबोचा

    Ahmednagar (Maharashtra Development Media) - A case has been reported of kidnapping a child going to school in Sangamner to recover a million rupees. After the kidnapping, the criminals demanded ransom on the phone to the father of the clothes trader Victim's child. The police started tracing the kidnappers using their sources, after which the criminals left the child in a village near the city and fled from there. Police have arrested three suspected criminals in this case. Manoj Kataria's son Daksha (age 12 years), director of Sangaria's Kataria Cloth, studies in the Global School. Like every morning, when Daksha came out of the house to go to his school, while waiting for the school bus at some distance from the house, the criminals who came in the Indica car picked up Daksha and put him in the Indica car and ran away. After some time the abusers called the father of the child and informed him about the kidnapping. On hearing this, Daksha's parents got nervous. He came to know about this by contacting the first school and the bus driver, but the child did not reach the school. After that, the parents went to the police and informed the police about the whole case. The detractors demanded a ransom of ten crore rupees by the message near Katariya. In view of the magnitude of the incident, the police started their investigation process and got information and CCTV. Through the footage, the police started searching for the kidnappers. After getting clues to the police, the culprits thought of going behind bars at any time, after which the criminals left the child in Sukwadi near Sangamner and ran away. After the boy found a young man in Sukwadi, the young man informed the police about it. The police immediately reached the spot and handed the child to his parents. In the investigation of the case, the police arrested three suspected criminals. The police is busy in the search of the criminals who have escaped in this case.
    अहमदनगर (महाराष्ट्र विकास मिडिया)- दस करोड की फिरोती वसुलने के लिए संगमनेर में पाठशाला जानेवाले एक बच्चे का अपहरण करने का मामला सामने आया है। अपहरण करने के बाद अपराधीयों ने कपडे के व्यापारी विक्टीम बच्चे के पिता को फोन पर फिरौतीकी मांग की। पुलिस ने अपने सुत्रों का उपयोग कर अपहरणकर्ताओं का ट्रेसिंग करना शुरु किया जिसके बाद अपराधीयों ने बच्चे को शहर के पास के गाव में छोडकर वहां से भाग गये. पुलिस ने इस मामले में तीन संदिग्ध अपराधीयों को अपने कब्जे में लिया है।
    संगमनेर के कटारिया क्लॉथ के निदेशक मनोज कटारिया के सुपुत्र दक्ष (उम्र 12 साल) ग्लोबल स्कुल में पढता है। हर रोज की तरह सुबह जब दक्ष अपने पाठशाला जाने के लिए घर से बाहर निकला उक वक्त घर से कुछी दुरी पर स्कुल बस का इंतजार करते वक्त इंडिका कार में आए हुए अपराधीयों ने दक्ष को उठाकर उसे इंडिका कार में डालकर वहां से भाग गये।
    कुछ सवय बाद अपहरकर्ताओं ने बच्चे के पिता को फोन कर उसका अपहरण किये जाने की जानकारी दी। इस बात को सुनकर दक्ष के माता-पिता घबरा गये। उन्होंने पहले पाठशाला और बस ड्रायव्हर से संपर्क कर पुछताछ करने पर बच्चा स्कुल में नहीं पहुंचा यह उन्हे पता चला। उसके बाद माता-पिता ने पुलिस के पास जाकर पुरे मामले की जानकारी पुलिस की दी।
    अपहरकर्ताओं ने मेसेजद्वारा कटारीया के पास दस करोड रुपयों की फिरौती की मांग की। पुलिस ने घटना की गंभिरता को देखते हुए अपनी जांच प्रक्रिया शुरु की और जानकारी एवं सी.सी.टी.व्ही. फुटेज के जरिये पुलिस अपहरणकर्ताओं को ढुंढने में जुट गई। पुलिस को सुराग मिलने से किसी भी वक्त सलाखों के पीछे जाने का अपराधीयों को अंदाज लगा जिसके बाद अपराधीयों ने उस बालक को संगमनेर के पास के सुकेवाडी में छोड दिया और वहां से भाग गये।
    सुकेवाडी में वह बालक एक युवक को मिलने के बाद युवक ने इसकी जानकारी पुलिस को दी। पुलिस ने तुरंत घटनास्थळ पर पहुंचकर बालक को अपने माता पिता के पास सौंप दिया। साथ ही मामले की जांच में तीन संदिग्ध अपराधीयों को पुलिस ने धरदबोचा। इस मामले में भागे हुए अपराधीयों की खोज में पुलिस जुटी है।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad