Header Ads

  • ताजा खबरें

    राज ठाकरे से हडबडा गई है भारतीय जनता पार्टी ; इसलिए इ डी ने भेजा नोटीस : राजू शेट्टी

    Sangli (Maharashtra Development Media) - MNS president Raj Thackeray has been given the E.D. Has sent notice. When the company given the notice has become poor. All these things have been passed so long that three governments have been established so far. Former Swabhiman leader Raju Shetty told reporters at a press conference today that he had slept for so many years. Shetty says, EVMs Bharatiya Janata Party has been disturbed by the protest against the protest, so the ED notice was taken out.  ED issued a notice to MNS president Raj Thackeray two days ago. Notice is given in respect of the behavior of Kohinoor mill of Dadar. He was ordered to appear for questioning on August 22.  Shetty further said that the Bharatiya Janata Party is playing politics of revenge. It is already clear in 2008 that Raj Thackeray was out of Kohinoor's behavior. He has raised the voice of Thackeray in the Lok Sabha everywhere from the failure of the BJP government in the flood situation in the general public. And recently, in the strong opposition of EVMs across the country, the environment was created by Mr. With the leadership of Thackeray, the Bharatiya Janata Party has been utterly disturbed. Therefore, the government is trying to arrest them in the ED. The behavior of the impoverished IL&FS company is currently being investigated by the ED Agency. In which the land company of Kohinoor mill along with former Chief Minister Manohar Joshi's son, Umesh Joshi, took part in the partnership. Thackeray also has a partnership in that. But after some time the company sold their share to Joshi's company. Over time, IL&FS had taken a loan of Rs 500 crore. Due to the failure to pay the loan, Umesh Joshi gave the land to the company. This whole practice took place in 2011, but it was registered in 2017. Because of this, the possibility of sending a notice to Thackeray has been made known even before this behavior seems suspicious.
    सांगली (महाराष्ट्र विकास मिडिया)- राजनितीक खेल से मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे को ई.डी. ने नोटीस भेजी है। नोटीस दी गई कंपनी कब की कंगाल हो चुकी है। इन सब चिजों को अब इतना समय गुझर गया है जिसमें अब तक तीन सरकार स्थापित हुए। इतने साल क्या वे सोये थे ऐसा सवाल स्वाभिमान के नेता पूर्व सांसद राजू शेट्टी ने आज प्रेस कॉन्फ्रेंस में पत्रकारों को बताया। शेट्टी कहते है, ई.व्ही.एम. के विरोध में आंदोलन को देख भारतीय जनता पार्टी हडबडा गई है इसलिए ईडी की यह नोटीस निकाली गई।
    मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे को ई डी ने दो दिन पहले नोटीस जारी की है। दादर के कोहिनूर मिल के व्यवहार के मामले में नोटीस दिये जाने की जानकारी है। उन्हे 22 अगस्त को पुछताछ के लिए हाजिर रहने का आदेश दिया गया।
    इसपर शेट्टी ने आगे कहा कि, भारतीय जनता पार्टी बदले की राजनिती खेल रही है। 2008 में ही राज ठाकरे कोहिनूर के व्यवहार से बाहर निकले थे यह पहले से स्पष्ट है। लोकसभा में ठाकरे को हर जगह उनके सभाओं में आम जनता का मिलता सपोर्ट, बाढ परिस्थिती में भाजपा सरकार असफल होने से उन्होंने आवाज उठाया है। और हालही में देश भर में ईव्हीएम का जोरदार विरोध में वातावरण निर्मिती श्री. ठाकरे के नेतृत्व में होने से भारतीय जनता पार्टी पुरीतरह घबराहट में हडबडा गई है। इसलिए उन्हें ईडी में अटकाने की नामाक कोशिश सरकार द्वारा किया जा रहा है। कंगाल हो चुकी आयएल अॅण्ड एफएस कंपनी के व्यवहार की जांच हाल फिलहाल ई डी एजेंसी द्वारा की जा रही है। जिसमें कोहिनूर मिल की जमिन कंपनी के साथ साथ पुर्व मुख्यमंत्री मनोहर जोशी के बेटे उन्मेश जोशी ने पार्टनरशिप लिया था। उसमें ठाकरे की भी पार्टनरशिप है। लेकिन कुछ समय बाद कंपनीने उनका हिस्सा जोशी के कंपनी को बेच दिया था। समय के साथछ साथ आयएल अॅण्ड एफएस ने 500 करोड का लोन लिया था। लोन भरने को असफल होने के कारण उन्मेश जोशी ने यह जमिन कंपनी को दे दी। यह पुरा व्यवहार 2011 में हुआ था, लेकिन इसका पंजीकरण सन 2017 में किया गया। जिसकी वजह से यह व्यवहार संदहजनक लगने से ठाकरे को नोटीस भेजने की आशंका इसके पहले भी जताई जा चुकी है।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad