Header Ads

  • ताजा खबरें

    बाढ़ की प्राकृतिक आपदा में संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन द्वारा कोल्हापूर-सांगली के अलावा कई स्थानों पर राहत कार्य

    -मुंबई तथा महाराष्ट्र के अन्य भागों से मिशन द्वारा राशन, कपडा, दवाईयाँ, बर्तन इत्यादी जीवनावश्यक चीजें बाढ़ पीडितों के लिए रवाना
    -राहत सामग्री के ४ ट्रक मुंबई से आज रवाना हुए
    -फाउंडेशन द्वारा स्थानीय स्तर पर स्वच्छता अभियान जारी

    Mumbai, (Maharashtra Development Media): - The Sant Nirankari Mission, which is always in the forefront of service to humanity, is implementing the proclamation of Nirankari Baba Hardev Singh Ji Maharaj of "Man to man be lovely, a couple made support" Along with Sangli and Kolhapur, continuous relief work is being done wherever flood situation arises. Ration, clothing, bedding, medicines, utensils etc. are being sent for flood victims from the Mumbai Regional Branch and various areas of the state by the Mission.  Under the auspices of Sant Nirankari Charitable Foundation, 6 trucks of this relief material left from Mumbai on August 14. This material from various branches located in Mumbai city, suburbs, Thane, Navi Mumbai, Panvel, Uran, Dombivali, Kalyan, etc., under the guidance of Shri Bhupendra Singh Chughji, Mumbai Regional In-charge of Mandal for the last one week. Was being assembled in the building. In this service, Additional Regional In-charge Mrs. Sarabjit Hobby and Regional Director of Seva Dal Sarvat Lalit Dalvi and Babubhai Panchal made special contribution.  Relief work in this natural disaster night and day continuously from the first day of flood:  Sangli  The flood disaster affected Sangli, Miraj, Palus, Shirala and hundreds of nearby villages of Sangli district and flooded the homes of lakhs of people. Life became unsettled. In such a situation, through the governmental arrangements as well as the Sant Nirankari Mission, helping the victims by serving with whole body, mind and wealth throughout the day. On behalf of the Mission, under the auspices of Sant Nirankari Charitable Foundation, KWC College, Vasantdada Kamgar Bhavan, Malu High School, Rituraj Hall, Kachchi Bhavan School No. 29, 15, Lad School Vishrambagh, Rajmati College and Sangram Hall at Palus, Nearly 4 thousand citizens, who were staying at places like Valapa's School No.2, Khanapude on the outskirts of Shirala, were given food for two consecutive times till the flood waters receded from 6 August. Efforts were also made by the Sevadal volunteers of the mission to save the people trapped in the water. The social work minister Namdar Sureshbhau Khade, MP Sanjaykaka Patil, MLA Sudhir Gadgil etc. dignitaries presented this relief work of the mission and appreciated this impeccable services of the mission.  Apart from where the flood water has drained out of the villages of Devwadi, Bahe, Shirete, Bhawani Nagar, Yede Machhindra, Khanapude, Amnapur etc., mud, sanitation and food, bedding, clothes, grains and medicines are available to the victims Is being done.  Regional Director of Sant Nirankari Sevadal, Mr. Jagannath Nakaje of Sangli, Sector Convenor of Sangli Jalinder Jadhav, Sector Convenor Krishi Deva Uthale of Shirala, Sector Convener Datta Jagtap of Khanapur under the guidance of Sangli, Miraj, Tasgaon, Jat, Vita, Khanapur, Shirala, Kadegaon Nearly 1500 sevadal volunteers are offering their services day and night from places like Atpadi, Kavathe Mahanka, Salgare, Deshing etc. I am  As soon as the flood water comes out, the cleanliness drive is being continued by the Foundation in Sangli and flood affected rural areas.  Other branches of Mandal in Sangli district are also contributing their relief work wherever possible on their behalf.    Kolhapur  Apart from Kolhapur city, hundreds of villages in the district were flooded due to this unprecedented pre-flood in Kolhapur district. In view of this harsh situation, continuous food and medical facilities were made available in Sant Nirankari Satsang Bhawan, Kolhapur and Sant Nirankari Satsang Bhawan, Gandhi Nagar under the aegis of Charitable Foundation on behalf of Kolhapur Regional Branch of Sant Nirankari Mission. Milk for children and food packets for common citizens were distributed. These services are being carried out under the guidance of Mr. Amar Lal, Regional In-charge of Kolhapur Zone of the Mission, Mr. Shahaji Patil, Regional Director of Seva Dal and Mr. Mukti Jadhav, local Mukhi.  Medical drivers and medicines under the aegis of Sant Nirankari Charitable Foundation were given to the motorists stuck in roads during the floods. In this service, Dr. Rahul Gholap, Dr. Shivaji Magdum, Dr. Nishant Pandava, Dr. Schin Jirge besides the citizens of Shiv Sena Vinod Khot, Pandurang Khot, Shivaji Khot, Bharat Khot, Suresh Warke and Kaneri Wadi.  Apart from this, in the Tehsils of Gadhinglaj, Chandgad, Azra, Hatkanangale, etc. of the district, food and lodging arrangements were also provided on behalf of the Mission.  As soon as the flood water comes out, a cleanliness drive is being organized by the Foundation in Kolhapur city with the district administration, which was started from Shahupuri. This campaign will continue continuously in other areas of the city.    Ichalkaranji    Due to the flood situation in some parts of Ichalkaranji, arrangements were made for the residence, food and medical treatment and medicines of flood victims in Sant Nirankari Satsang Bhawan, Industrial Estate, Ichalkaranji. From the Hoopari branch of Mandal near Ichalkaranji, arrangements were also made for the residence of the victims and food etc. in the local Satsang Bhawan.  Satara  On the one hand, Karad city was affected due to the flood, due to the closure of the Pune-Bangalore highway, thousands of vehicles stopped on the highway in Satara and its adjoining areas. Under the auspices of the Foundation for the employees and passengers stuck in those vehicles Umbraj district of the district
    मुंबई,(महाराष्ट्र विकास मिडिया):- “मानव को मानव हो प्यारा, एक दूजे का बने सहारा” के निरंकारी बाबा हरदेव सिंह जी महाराज के उद्घोष को अमल में लाते हुए मानवता की सेवा में हमेशा अग्रसर रहने वाले सन्त निरंकारी मिशन द्वारा महाराष्ट्र में सांगली और कोल्हापूर के साथ साथ जहां जहां भी बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हुई वहां पर लगातार अपना राहत कार्य किया जा रहा है | मिशन के द्वारा मुंबई क्षेत्रीय ब्रांच तथा राज्य के विभिन्न क्षेत्रों से बाढ़ पीडितों के लिए राशन, कपडे, बिस्तर, दवाईयाँ, बर्तन इत्यादी जीवनावश्यक वस्तू बाढ़ पीडितों के लिए रवाना की जा रही है | 
    संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के तत्वावधान में मुंबई से आज १६ अगस्त के दिन इस राहत सामग्री के ४ ट्रक रवाना हुए |  पिछले एक हप्ते से मंडल के मुंबई क्षेत्रीय प्रभारी श्री भूपेन्द्र सिंह चुघ जी के मार्गदर्शन में मंडल की मुंबई शहर, उपनगर, ठाणे, नवी मुंबई, पनवेल, उरण, डोंबिवली, कल्याण आदि इलाकों में स्थित विभिन्न ब्रांचों से यह सामग्री मिशन के चेम्बूर स्थित सत्संग भवन में इकट्ठा की जा रही थी | इस सेवा में अतिरिक्त क्षेत्रीय प्रभारी श्रीमती सरबजीत शौक तथा सेवादल के क्षेत्रीय संचालक सर्वश्री ललीत दलवी एवं बाबूभाई पांचाल ने विशेष योगदान दिया |
    बाढ़ के पहले दिन से ही रात-दिन लगातार इस प्राकृतिक आपदा में राहत कार्य:
    सांगली
    बाढ़ की आपदा से सांगली जिले के सांगली, मिरज, पलुस, शिराला एवं आस पास के सैंकडों गांव प्रभावित हुए और लाखों की संख्या में लोगों के घरों में पानी भर गया | जनजीवन  अस्ताव्यस्त हो गया | ऐसी स्थिति में सरकारी व्यवस्थाओं के साथ साथ संत निरंकारी मिशन के द्वारा दिनरात तन-मन-धन से सेवा करके पीडित लोगों की मदद की |  मिशन की ओर से संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के तत्वावधान में के.डब्ल्यू.सी.कॉलेज, वसंतदादा कामगार भवन, मालु हायस्कूल, ऋतुराज हॉल, कच्ची भवन स्कूल नं.२९, १५, लाड स्कूल विश्रामबाग, राजमती कॉलेज तथा पलुस स्थित संग्राम हॉल, वालवा के स्कूल नं.२, शिराला के बहे खानापुडे आदि स्थानों पर रुके हुए करीब 4 हजार नागरीकों को ६ अगस्त से बाढ़ का पानी उतर जाने तक लगातार दो समय का भोजन दिया गया | पानी में फंसे लोगों को बचाने के लिए भी मिशन के सेवादल स्वयंसेवकों द्वारा प्रयास किए गए | मिशन के इस राहत कार्य को राज्य के सामाजिक न्याय मंत्री नामदार सुरेशभाऊ खाडे, सांसद संजयकाका पाटील, विधायक सुधीर गाडगील आदि गणमान्य व्यक्तियों ने भेंट किया और मिशन के इस निष्काम सेवाओं की सराहना की | 
    इसके अलावा जहां बाढ़ का पानी निकल गया है उनमें से देववाडी, बहे, शिरटे, भवानी नगर, येडे मच्छिंद्र, खानापुडे, अमनापुर आदि गावों के घरों में से कीचड निकालना, स्वच्छता करना तथा पीडितों को भोजन, बिस्तर, कपडा, अनाज एवं दवाईयाँ उपलब्ध की जा रही है |  
    संत निरंकारी सेवादल के सांगली के क्षेत्रीय संचालक श्री जगन्नाथ निकालजे, सांगली के सेक्टर संयोजक जालिंदर जाधव, शिराला के सेक्टर संयोजक कृष्णदेव उथळे, खानापूर के सेक्टर संयोजक दत्ता जगताप इनके मार्गदर्शन में सांगली, मिरज, तासगाव, जत, विटा, खानापुर, शिराला, कडेगांव, आटपाडी, कवठे महांकाळ, सलगरे, देशिंग इत्यादी स्थानों से करीब १५०० सेवादल स्वयंसेवक रात दिन अपनी सेवायें प्रदान कर रहे हैं | 
    बाढ़ का पानी निकलते ही जिला प्रशासन के साथ मिल कर फाउंडेशन की ओर से सांगली एवं बाढ़ से प्रभावित ग्रामीण इलाकों में स्वच्छता अभियान लगातार जारी है |
    सांगली जिले की मंडल की अन्य ब्रांचेस द्वारा भी जहां जहां सम्भव है वहां अपनी ओर से यथा संभव राहत कार्य में अपना योगदान दिया जा रहा है | 

    कोल्हापूर
    कोल्हापूर जिले में इस अभूत पूर्व बाढ़ से कोल्हापूर शहर के अलावा जिले के सैंकड़ों गाँवों में पानी भर गया | इस दुरुह स्थिति को देखते हुए संत निरंकारी मिशन के कोल्हापूर क्षेत्रीय ब्रांच की ओर से चैरिटेबल फाउंडेशन के तत्वावधान में संत निरंकारी सत्संग भवन, कोल्हापूर एवं संत निरंकारी सत्संग भवन, गांधी नगर में लगातार भोजन एवं वैद्यकीय सुविधायें उपलब्ध कराई गई | बच्चों के लिए दूध तथा आम नागरिकों के लिए फूड पॅकेटस बाँटे गए | मिशन के कोल्हापूर ज़ोन के क्षेत्रीय प्रभारी श्री अमर लाल, सेवादल के क्षेत्रीय संचालक श्री शहाजी पाटील एवं स्थानीय मुखी श्री श्रीपती जाधव जी के मार्गदर्शन में ये सेवायें चल रही हैं | 
    बाढ़ के समय रास्तों में फंसे वाहन चालकों को संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन के तत्वावधान में वैद्यकीय उपचार एवं दवाईयां दी गई | इस सेवा में डॉ.राहुल घोलप, डॉ.शिवाजी मगदूम, डॉ.निशांत पांडव, डॉ.सचिन जिरगे इनके अलावा शिवसेना के विनोद खोत, पांडुरंग खोत, शिवाजी खोत, भारत खोत, सुरेश वारके तथा कणेरी वाडी के नागरिकों ने अपना योगदान दिया |
    इसके अलावा जिले के गडहिंग्लज, चंदगड, आजरा, हातकणंगले, इत्यादी तहसीलों में भी मिशन की ओर से स्थान स्थान पर भोजन एवं निवास की व्यवस्था प्रदान की गई | 
    बाढ़ का पानी निकलते ही जिला प्रशासन के साथ मिल कर फाउंडेशन की ओर से कोल्हापूर शहर में स्वच्छता अभियान चलाया जा रहा है जिसका प्रारंभ शाहूपूरी से किया गया | यह अभियान शहर के अन्य इलाकों में भी लगातार जारी रहेगा |

    इचलकरंजी
      इचलकरंजी के कुछ हिस्सो में बाढ़ की स्थिति के चलते संत निरंकारी सत्संग भवन, इंडस्ट्रीयल इस्टेट, इचलकरंजी में बाढ़ पीडितों के निवास, भोजन एवं वैद्यकीय उपचार एवं दवाईयों की व्यवस्था की गई थी | इचलकरंजी के नजदीक मंडल की हुपरी ब्रांच की ओर से भी वहां के स्थानीय सत्संग भवन में बाढ़ पीडितों के लिए निवास एवं भोजन इत्यादि की व्यवस्था की गई |
    सातारा
    बाढ़ के कारण एक तरफ कराड शहर प्रभावित हुआ वहां पुणे-बंगलुरु हायवे बंद होने के कारण हजारों वाहन सातारा एवं उसके आस पास के इलाके में हायवे में ही रुक गए | उन वाहनों में अटके हुए कर्मचारी एवं यात्रियों के लिए फाउंडेशन के तत्वावधान में जिले के उंब्रज स्थित संत निरंकारी सत्संग भवन में निवास एवं भोजन की व्यवस्था की गई | मंडल की उंब्रज, बारामती, फलटण, खंडाला, शिरवल आदि शाखाओं ने इसमें अपना योगदान दिया |
    कराड में फाउंडेशन की ओर से जहां बाढ़ पीडितों के लिए जीवनावश्यक वस्तूओं का वितरण किया गया वहां शहर में स्वच्छता अभियान भी चलाया गया | इस दौरान देश के महान नेता स्वर्गीय यशवंतराव चव्हाण की समाधी स्थल की स्वच्छता की गई | 
    मंडल के सातारा के क्षेत्रीय प्रभारी श्री नंदकुमार झांबरे के मार्गदर्शन में यह सेवा निभाई गई |
    पंढरपूर
    पंढरपूर में भी संत निरंकारी मंडल की पंढरपूर ब्रांच की ओर से वहां के बाढ़ पीडितों कों सुरक्षित स्थलों पर ले जाने तथा बाढ़ की स्थिति सामान्य होने तक लगातार निरंकारी सेवादल स्वयंसेवक बाढ़ पीडितों की सहायता कर रहे थे | बाढ़ पीडितों के निवास एवं भोजन की व्यवस्था संत निरंकारी सत्संग भवन, सांगोला रोड, पंढरपूर में की गई थी | 
    सौंदलगा-खिलेगांव (कर्नाटक)
    कोल्हापूर के नजदीक कर्नाटक राज्य के सौंदलगा, निपाणी एवं खिलेगाँव में संत निरंकारी मंडल की स्थानीय ब्रांचों द्वारा बाढ़ पीडितों के निवास, भोजन एवं चाय-पान की व्यवस्था की गई | 
    कुल मिला कर जहां जहां भी बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हुई वहां संत निरंकारी चैरिटेबल फाउंडेशन द्वारा अपना राहत कार्य निभाया गया | 

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad