Header Ads

  • ताजा खबरें

    बदलापूर के शिवसेना पदाधिकारी एवं पत्रकार आईविट लोबो की जांबुल फाटा में हुई जमकर पिटाई

    Badlapur (Maharashtra Development Media) - The Shiv Sena office bearer and journalist Ivit Lobo of Karib Badlapur from 8.30 to 9 on the Jambul Phata on Badlapur Ambarnath Road was badly beaten up by unknown persons. Let me tell you that the Shiv Sainik ivit lobo has become so nervous after being killed that till now he has not even written a report against the victims in the police station.  Let me tell you, that the journalist from Ulhasnagar and the officer of Small and Medium News Pept Sanghatna and journalist Kiran Padwal, while giving information to Maharashtra Vikas Media, said that, after spreading the news of "beatings of ivit lobo last evening" in social media this morning When he called Ivit Lobo for questioning, Lobo was completely nervous. Denying the incident of the assault, he disconnected the phone saying that nothing has happened while asking where you came from. Journalist Kiran Padwal says the journalist Iwit Lobo Puri was nervous while talking on the phone.  Yesterday evening, some people from 8.30 to 9 beat up journalist Iwit Lobo at Badlapur Ambarnath Road, near Jambul Phata. At that time, Lobo held his feet and apologized, according to eyewitnesses. However, the journalist Iwit Lobo has not filed any complaint with the police station so far. Due to the attack on the journalist, the question of why he is sitting silent now is being asked by the citizens.  Let me tell you that, over the years, many incidents of attacks on journalists have come to light in Badlapur city, but after every attack, the police are fearless and go to the police station to complain against the criminals, and report this time. The Shivsainik-journalist is nervous even to complain at the police station for fear of beating the ivit lobo badly. Why was you beaten up in this situation? Why did the beaters kill Shiv Sainik and journalist Ivitt Lobo? Due to some mistake or any act of Ivit Lobo, he was beaten, due to which Lobo is reluctant to write a report in the police station despite being killed? All these things have not been revealed yet.  Journalist Kiran Padwal further told that, for the attack on journalists, strict action should be taken for this, our organization is always active, but after the killing, if the journalist does not complain in the police station then what will the organization or police help him for.  Let me tell you, Shiv Sena, a resident of Iwit Lobo Badlapur East, is an official of Badlapur city and calls himself a journalist of a local newspaper. In Badlapur city, there were incidents of attacks on journalists even before this, but this is the first case in which even after being beaten, journalists have covered the beating by saying nothing happened instead of going to the police station to complain.
    बदलापूर (महाराष्ट्र विकास मिडिया)- बदलापूर अंबरनाथ रोड स्थित जांबुल फाटा पर कल शाम 8.30 से 9 के करिब बदलापूर के शिवसेना पदाधिकारी और पत्रकार आईविट लोबो को अज्ञात व्यक्तियों ने बुरी तरह पिटा है। बता दें कि, मार खाने के बाद शिवसैनिक आईविट लोबो इतना घबर चुका है कि अब तक उसने मारनेवालों के खिलाफ पुलिस थाने में रपट तक नहीं लिखाई।
    बता दें कि, उल्हासनगर के पत्रकार और स्मॉल अॅण्ड मिडियम न्युज पेपट संघटना के पदाधिकारी और पत्रकार किरण पडवल ने महाराष्ट्र विकास मिडिया को जानकारी देते हुए कहा कि, आज सुबह सोशल मिडिया में "कल शाम आईविट लोबो की पीटाई होने की" खबर फैलने के बाद जब उन्होंने पुछताछ के लिए आईविट लोबो को फोन किया उसवक्त लोबो पुरी तरह घबराया हुआ था। उसने मारपीट की घटना को नकारते हुए आपको कहां से पता चला ऐसा पुछते हुए ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है ऐसा कहकर फोन काट दिया। फोन पर बात करते वक्त पत्रकार आईविट लोबो पुरी तरह घबराया हुआ था ऐसा पत्रकार किरण पडवल का कहना है।
    कल शाम 8.30 से 9 के करिब कुछ लोगों ने बदलापूर अंबरनाथ रोड जांबुल फाटा के पास में पत्रकार आईविट लोबो की जमकर पिटाई की। उस वक्त लोबो ने मारनेवालों के पैर पकडकर माफी मांगता रहा ऐसा प्रत्यक्षदर्शीयों का कहना है। हालांकि मार खानेवाले पत्रकार आईविट लोबो ने पुलिस थाने में अब तक कोई भी शिकायत दर्ज नहीं की है। जिसके चलते पत्रकार पर हमला होने के बावजुद वह चुप क्यों बैठा है ऐसा सवाल अब नागरिकों द्वारा पुछा जा रहा है।
    बता दें कि, पिछले कुछ वर्षों से बदलापूर शहर में पत्रकारों पर हमले की कई वारदातें सामने आई है लेकिन हर बार हमला होने के बाद अपराधियों पर पुलिस ने कारवाई हेतु पिडीत पत्रकार निडर होकर थाने में जाकर शिकायत करते है रिपट लिखाते है लेकिन इस बार पत्रकार आईविट लोबो को बुरी तरह पीटने के बावजुद आवाज उठाना तो दुर डर के मारे यह शिवसैनिक - पत्रकार पुलिस थाने में शिकायत करने तक को घबरा रहा है। ऐसे में पीटाई क्यों हुई ? पीटाई करने वालों ने शिवसैनिक और पत्रकार आईविट लोबो को क्यों मारा ? आईविट लोबो के किसी गलती या किसी कृत्य के कारण उसकी पीटाई हुई जिसकी वजह से मार खाने के बावजुन थाने में रपट लिखाने को लोबो कतरा रहा है ? इन सभी बातों का खुलासा अब तक नहीं हो पाया है।
    पत्रकार किरण पडवल ने आगे बताया कि, पत्रकारों पर हमला करनेवालों पर कडी कारवाई होनी चाहिए इसके लिए हमारा संघठन हमेशा सक्रीय रहता है लेकिन मार खाने के बाद अगर पत्रकार थाने में शिकायत ही नहीं करेगा तो संघटना या पुलिस उसकी क्या खाक मदद करेगी।
    बता दें कि, आईविट लोबो बदलापूर पूर्व का रहनेवाला शिवसेना बदलापूर शहर का पदाधिकारी है और अपने आपको वह  एक स्थानिय अखबार का पत्रकार बताता है। बदलापूर शहर में इसके पहले भी पत्रकारों पर हमले की वारदातें हुई लेकिन यह पहला मामला है जिसमें मार खाने के बाद भी पत्रकार शिकायत देने थाने जाने के बजाय कुछ हुआ ही नहीं कहकर पीटाई पर परदा डाले है।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad