Header Ads

  • ताजा खबरें

    गोल मैदान में लाखो रुपये खर्च कर निर्माण किये गये "फ्लैग मास्ट" पर झंडा वंदन करने तक की फुरसत नहीं!

    Ulhasnagar (Maharashtra Development Media) - A lively example of how the Ulhasnagar municipality washed away the money collected from the house tax of ordinary citizens in the water has got people watching in celebration of Independence Day. Spending millions of rupees, the administration built a 100-foot-high flag mast at Ulhasnagar Gol Maidan on the occasion of Independence Day.  Tell us that, on January 1, 2019, the work order for construction of 100 feet high flag mast was taken out by the Ulhasnagar Municipality on January 1, 2019. The work cost around 13 lakh rupees and spent about 75 thousand for the tricolor. Gone. But today, on the eve of Independence Day, the administration is being questioned by the common citizens of the nearby people for not worshiping the flag on that flat mast. When the local administration does not even come to bow the flag on such an occasion, why the administration has created a flag mast by wasting the money earned from the public tax, it is a question of the residents of Ulhasnagar Gol Maidan.  In Mumbai This flag mast was constructed by a contractor named TechCups on the ground floor. If the flag was not to be worshiped then did the construction of the Tirangeke Mast in the Gol Mahal of Ulhasnagar Municipality to benefit the concerned contractor just by giving them work? The corrupt political party, administration officials, who did not come to the bank to eat a brokerage in the name of development, did not get the leisure to worship the flag at Gol Maidan on today's Independence Day. Is. Due to this, citizens have now commented heavily on the administration on social media.
    उल्हासनगर (महाराष्ट्र विकास मिडिया)- उल्हासनगर महापालिका किस तरह आम नागरिकों के हाऊस टैक्स से मिलनेवाले पैसों को पानी में बहाती है इसका जीता जागता उदाहरण स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में लोगों को देखने को मिला है। लाखो रुपये खर्च कर प्रशासन ने उल्हासनगर गोल मैदान में जो 100 फीट उंचा फ्लैग मास्ट का निर्माण किया उसपर आज स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में झंडा वंदन ही नहीं किया। 
    बता दें कि, उल्हासनगर महापालिका द्वारा 1 जनवारी 2019 को उल्हासनगर 1 गोल मैदान में 100 फीट उंचा फ्लैग मास्ट के निर्माण का वर्क ऑर्डर निकाला गया, इस काम में 13 लाख रुपयों के करिब पोल का खर्चा और 75 हजार के करिब तिरंगे के लिए खर्च किया गया। लेकिन आज स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में उस फ्लैट मास्ट पर झंडा वंदन ही न करने से आस पास के आम नागरिकों द्वारा प्रशासन पर अब सवाल उठाए जा रहे है। जब स्थानिय प्रशासन को ऐसे मौके पर झंडा वंदन करना भी नहीं आता तो क्यों जनता के टैक्स रुपी मिलनेवाले पैसों को प्रशासन ने बर्बाद कर फ्लैग मास्ट का निर्माण किया ऐसा उल्हासनगर गोल मैदान के रहिवासीयों का सवाल है।
    मुंबई के मे. टेककप्स नाम के ठेकेदार ने इस फ्लैग मास्ट का निर्माण गोल मैदान पर किया था। झंडा वंदन ही नहीं करना था तो फिर क्या संबंधीत ठेकेदार को सिर्फ काम देकर उसका फायदा कराने के लिए उल्हासनगर महापालिका के गोल मैदान में तिरंगेके मास्ट का निर्माण किया था ? विकास के नाम पर ठेकेदारी में दलाली खानेसे बाज ना आनेवाले भ्रष्ट राजनैतिक दल, प्रशासन अधिकारी इन सभी को आज के स्वतंत्रता दिवस के दिन गोल मैदान स्थित झंडा वंदन करने तक की फुरसत नहीं मिली यह देख अब लोगों को भी उल्हासनगर के ऐसे भ्रष्टाचारीयों की घृणा आती है। जिसके चलते नागरिकों ने अब सोशल मिडिया पर प्रशासन के उपर जोरदार टिका टिप्पनी की है।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad