Header Ads

  • ताजा खबरें

    उल्हासनगर के गढ्ढों ने ली फिर एक मासुम की जान

    उल्हासनगर (महाराष्ट्र विकास मिडिया)- उल्हासनगर कैम्प 3 पैनल नंबर 10 हिराघाट पंचशील नगर सढक पर गढ्ढे पर गाडी से गिरने के बाज पिछे से टैंकर ने कुचलने के कारण एक युवक की मौत हुई।
    बता दें कि, उल्हासनगर महापालिका के पुरे क्षेत्र में हजारों की संख्या में सढकों पर बडे - बडे गढ्ढे है। सामाजिक संस्था, पूर्व नगरसेवक, राजनैतिक दलों और आम नागरिकों के कई बार शिकायत करने के बावजुद इन गढ्ढों को बुझाने में महापालिका नाकयाब रही। आखिरकार इस गढ्ढे ने फिर एक मासुम की जान ली है।
    उल्हासनगर हिराघाट पंचशील नगर के सढकों पर जगह जगह दुर्घटना होनेवाले गढ्ढे है। इस गढ्ढे की वजह से कई बार दु  व्हिलर के स्किड होने से वाहन चालक जखमी होते है। ऐसे में गिरने के बाद अगर पिछे से कोई बडी बस, ट्रक या टैंकर की चपेट में जखमी आने से उसकी घटनास्थळ पर मौत होने के पुरे आसार नजर आ रहे थे। स्थानिक लोगों ने इस गढ्ढे की शिकायत स्थानिय महापालिका प्रशासन से की लेकिन पैसों के मोहमाया में अटके नगरसेवक लोकप्रतिनिधीयों ने, अधिकारीयों ने एवं ठेकेदारों ने इस गढ्ढों को बुझाने की इच्छा नहीं जताई। आखिरदार आज शाम इस गढ्ढे में स्किड होकर 28 वर्षीय युवक रवि तपसी जैस्वाल की गिरने के बाद पिछे से टैंकर ने कुचरने के बाद उसकी घटनास्थळ पर मौत हुई।
    बता दें कि, इसके पहले भी उल्हासनगर महापालिका क्षेत्र में सढक पर गढ्ढे से गाडी स्किड होकर पत्रकार एवं निःस्वार्थ समाजसेवक की मौत हुई थी। उस वक्त भी कुछ दिनों तक लोगों ने और सामाजिक संघटनाओं के पदाधिकारीयों ने आवाज उठाया था। लेकिन गांधारी की पट्टी पहने उल्हासनगर महापालिका प्रशासन ने उस वक्त भी शहर के सढकों पर पडे गढ्ढे बुझाने में कोई खास गंभिरता नहीं दिखाई। उस वक्त सढक के गढ्ढे की वजह से जान गवानेवाले मृत समाजसेवक के परिवार को उमपा आर्थिक मदद देगी ऐसा कहा। लेकिन आर्थिक मदद तो छोडो आज तक गढ्ढे भरने का भी काम पुरा नहीं हुआ।
    उस घटना के बाद आज फिर एक बार एक युवक की गढ्ढे में गिरकर पिछे से टैंकर ने कुचलने से दर्दनाक मौत होने से उल्हासनगर महापालिका टैक्स भरनेवाले कितने लोगों की सढक दुर्घटना में मौत होने के बाद निंद से जागेगी ऐसा प्रश्न पत्रकार महेश कामत ने स्थानिय प्रशासन से किया।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad