Header Ads

  • ताजा खबरें

    17 साल के नवयुवक को बेरहमी से पीटनेवालों पर कब होगी कार्यवाही? ; पिडीत को न्याय दिलाने उल्हासनगर टायगर ग्रुप प्रयत्नशील

    Ulhasnagar (Maharashtra Vikas Media) - Recently, on August 14, a 17-year-old young man was beaten for being brutally beaten for failing to pay interest money. After that, the panicked young man jumped off the bridge, trying to give his life through the shahad flyover. Sajid Sheikh is the victim of suicide attempt. Being seriously injured, he is now being treated at a Mumbai hospital.  Taking the law into account, these four of Shahad 1. Ravi (Santosh) Prakash Ladge 2. Akshay Gaikwad 3. Kavita Patil 4. Jyoti Toware criminals have brutally beaten 17-year-old youth by the police administration. Under the Child Child Protection Act, abduction and other sections, a case should be filed and sent behind the bars of the jail. Is  Ulhasnagar city president of Ulhasnagar Tiger Group, Ershad Bhai Sheikh told Maharashtra Development Media that, after getting information about this incident from social media, knowing from the family shows how a 17 year old young man as well as his mother. 1. Ravi (Santosh) Pa. The act of openly mocking the law of Yupi Bihar in Ulhasnagar city while brutally beating both of them forcibly Akshay Gaikwad Patil 4. 3. 2. ladage rakasa poem by Jyoti Tower in four offenders. After that the boy tried to commit suicide by panicking.  So far, the local police administration has not arrested any report against any of the four criminals who have made such a condition of a minor child by interest, so Ulhasnagar Tiger Group is requested by the police administration to take legal action on the culprits soon.  The condition of the victim, who jumped from the bridge by spreading suicide, is being described as very serious. So why is the police not arresting the culprits who have committed this condition so far, it is a question of the residents of Shahad.  If the local police station does not arrest the perpetrators by filing an FIR on the complaint and statement of the victim's family, then the Ulhasnagar Tiger Group will not back down from carrying out mass agitation and the administration will not be responsible for it. So Irshad Bhai Sheikh also told a representative that it would be better.
    उल्हासनगर (महाराष्ट्र विकास मिडिया)- हालहीं में 14 अगस्त को एक 17 साल के नवयुवक को ब्याज का पैसा ना देने पर उसकी बेरहमी से पीटाई करने की वारदात शहाड में हुई। जिसके बाद घबराकर पिडीत नवयुवक ने शहाड फ्लायओव्हर से अपनी जान देने की कोशिश करते हुए ब्रिज से छलांग लगाई। आत्महत्या करने का प्रयास करनेवाले पिडीत युवक का नाम साजिद शेख है। गंभिर रुप से जखमी होने के कारण उसका अब इलाज मुंबई के अस्पताल में हो रहा है।
    कानून को हाथ में लेते हुए शहाड के इन चार 1. रवि (संतोष) प्रकाश लदगे 2. अक्षय गायकवाड 3. कविता पाटील 4. ज्योती टावरे अपराधियों ने 17 साल के नवयुवक को बेरहमी से पीटा है उन अपराधियों के  खिलाफ पुलिस प्रशासन ने जल्द कारवाई कर चाईल्ड प्रोटेक्शन अक्ट, अपहरण एवं अन्य धाराओं के तहत मुकदमा दाखिल कर जेल की सलाखों के पीछे भेजना चाहिए ऐसी मांग अब पिडीत परिवार वालों के साथ साथ उल्हासनगर टायगर ग्रुप ने भी की है।
    उल्हासनगर टायगर ग्रुप के उल्हासनगर शहर अध्यक्ष ईर्शाद भाई शेख ने महाराष्ट्र विकास मिडिया को बताया कि, इस घटना की जानकारी उन्हे सोशल मिडिया द्वारा मिलने के बाद परिवार वालों से जानने से पता चलता है कि किस तरह एक 17 साल के नवयुवक और साथ ही उसकी मा को बेरहमी से मारपीट कर दोनों को जबरदस्ती अगवाह करते हुए उल्हासनगर शहर में युपी बिहार जैसे खुलेआम कानून की धज्जिया उडाने का काम 1. रवि (संतोष) प्रकाश लदगे 2. अक्षय गायकवाड 3. कविता पाटील 4. ज्योती टावरे इन चार अपराधियों ने किया। जिसके बाद घबराकर उस लडके ने आत्महत्या करने का प्रयास किया। 
    ब्याज का गोरखधंदा करके छोटे बच्चे की ऐसी हालत करनेवाले चारों अपराधीयों के खिलाफ अब तक स्थानिय पुलिस प्रशासन ने किसी भी प्रकार की रपट लिखाकर गिरफ्तार नहीं किया है इसलिए पुलिस प्रशासन से उल्हासनगर टायगर ग्रुप का निवेदन है कि जल्द ही अपराधीयों पर कानूनी कारवाई की जाए।
    आत्महत्या का प्रसार कर ब्रीज से छलांग मारनेवाले पिडीत नवयुवक की हालत बडी गंभिर बताई जा रही है ऐसे में उसकी यह हालत करनेवाले अपराधियों को अब तक पुलिस क्यों नहीं गिरफ्तार कर रही है ऐसा शहाड के रहिवासीयों का सवाल है।
    स्थानिय पुलिस थाने ने जल्द ही अगर पिडीत के परिवार के शिकायत और स्टेटमेंट पर एफआयआर दाखिल कर संबंधीत अपराधियों को गिरफ्तार नहीं किया तो उल्हासनगर टायगर ग्रुप जनआंदोलन करने से पीछे नहीं हटेगी और उसके लिए सिर्फ और सिर्फ पुलिस प्रशासन ही जिम्मेदार रहेगी यह बात प्रशासन ना भुलें तो बेहतर होगा ऐसा भी आखिर में ईर्शाद भाई शेख ने प्रतिनिधी को बताया।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad