Header Ads

  • ताजा खबरें

    शिवसेना के मंत्री एकनाथ शिंदे को टक्कर देने के लिए गणेश नाईक को पार्टी प्रवेश देने की भाजपा की चाल?

    Thane (Maharashtra Development Media) - After Sandip Naik's entry into the Bharatiya Janata Party, Ganesh Naik will soon enter the Bharatiya Janata Party regarding his entire Naik family and supporters in Navi Mumbai. Ganesh Naik in BJP with the announcement of Ganesh Naik entering the party in the presence of Chief Minister Devendra Fadnavis and other BJP ministers Not officially has been confirmed at the point of entry. But this party entry is seeing a big stir in the Shiv Sena party.  Sutras say that the Shiv Sena party is more upset than the nationalist party due to the news of Ganesh Naik's party entry. According to the sources, Eknath Shinde, who is keen to become a Shiv Sena MLA, Health Minister and Chief Minister, may have to face a lot of problems after coming to the Bharatiya Janata Party. Some senior leaders of political parties even say that due to Ganesh Naik, Eknath Shinde's political career in Thane may also be in danger. That is why the Bharatiya Janata Party is keen on giving Ganesh Naik entry into the party, realizing all this and thinking of the Shiv Sena's loss to Thane Gadkille.  Let us tell you that before the Nationalist Party MLA Jitendra Awhad had told about how Ganesh Naik from Nationalist High School, working in opposition to the party, while doing nationalism, but the Nationalist Party Hyakmand did not listen to Awhad. Finally, after Ganesh Naik's son entered the Bharatiya Janata Party, the nationalist's haikwand and senior leaders went to strike and at the same time, they started saying that they are getting the message of not listening to Jitendra Awhad. In the same way, now the Shiv Sena at the senior level in the Shiv Sena is giving news at a senior level about the political moves of the BJP, because on the one hand, the BJP and Shiv Sena party have formed a coalition government at the center and the state, while on the other side to change the Gadkila of the Shiv Sena. The Bharatiya Janata Party is trying new maneuvers to try. This has angered Shiv Sena officials, leaders and activists.  Actually, Ganesh Naik, who entered the Bharatiya Janata Party from a nationalist, is a celebrity. More than 50 nationalist corporators of Navi Mumbai are standing behind him like rock. Along with Navi Mumbai city, as well as Thane, there is a large section of Ganesh Naik, in such a situation, the Bharatiya Janata Party, seeing the political power of Naik, will be laying them till the Red Colim on Wednesday to enter the party.  It is worth mentioning that this is a discussion that BJP is doing at a senior level, this is a very big move to give Ganesh Naik entry in Bharatiya Janata Party to give a straight fight to Health Minister and Thane District President of Shiv Sena, Eknath Shinde. . The Shiv Sena is opposing the Bharatiya Janata Party from all the areas of Thane district as the Shiv Sena officials and activists now come to know about this. Some Shiv Sainiks are even saying that, the Bharatiya Janata Party, which has called the leaders of the nationalists as corrupt leaders, is giving admission to many nationalist candidates in their own party today. Now the said government's agenda of transparent BJP.  While the Shiv Sena is angry with Ganesh Naik's party entry for strongly opposing the Bharatiya Janata Party, some Shiv Sena officials in Mumbai are very happy with this decision of the Bharatiya Janata Party. This group of happy Shiv Sena party is also considered to be a group opposing Eknath Shinde.
    ठाणे (महाराष्ट्र विकास मिडिया)- संदिप नाईक के भारतीय जनता पार्टी में प्रवेश करने के बाद गणेश नाईक उनके नवी मुंबई के पुरे नाईक परिवार और समर्थकों को लेकर जल्द ही वे भारतीय जनता पार्टी में प्रवेश करेंगे ऐसी चर्चा थी जिसमे बाद बुधवार को अधिकृत्त रुप से गणेश नाईक मुख्यमंत्री देवेंद्र फडनवीस और अन्य बीजेपी मंत्रियों के उपस्थिती में पार्टी में प्रवेश करने की घोषणा से गणेश नाईक भाजपा में ऑफिशियली प्रवेश करने की बात पर मुहर लग चुकी है। लेकिन इस पार्टी प्रवेश से शिवसेना पार्टी में बडी हलचल देखने को मिल रही है।
    गणेश नाईक के पार्टी प्रवेश की खबर से ही राष्ट्रवादी पार्टी से ज्यादा शिवसेना पार्टी नाराज है ऐसा सुत्रों का कहना है। सुत्रों के अनुसार गणेश नाईक भारतीय जनता पार्टी में आने से आगे चलकर शिवसेना के विधायक, स्वास्थ्य मंत्री और मुख्यमंत्री बनने को उत्सुक रहे एकनाथ शिंदे को काफी दिक्कतों का सामना करना पड सकता है। राजनैतिक दलों के कुछ वरिष्ठ नेताओं का तो यह तक कहना है कि, गणेश नाईक के कारण ठाणे में एकनाथ शिंदे का पॉलिटिकल करिअर भी खतरे में आ सकता है। इसिलिए भारतीय जनता पार्टी ने यह सब भविष्य को समझते हुए और शिवसेना का ठाणे गडकिले को नुकसान पहुंचाने की सोच से गणेश नाईक को पार्टी में प्रवेश देने में उत्सुक है ऐसा शहर में चर्चा है।


    बता दें कि, राष्ट्रवादी पार्टी के विधायक जितेंद्र आव्हाड ने इसके पहले ही राष्ट्रवादी के हायकमांड से गणेश नाईक किस प्रकार राष्ट्रवादी में गटबाजी करते हुए पार्टी के विरोध में काम करते है यह बताया था लेकिन राष्ट्रवादी पार्टी हायकमांड ने आव्हाड की एक न सूनी। आखिरकार गणेश नाईक के बेटे ने भारतीय जनता पार्टी में प्रवेश करने के बाद राष्ट्रवादी के हायकवांड और वरिष्ठ नेताएं हडबडा गये साथ ही जितेंद्र आव्हाड की ना सुनने का यह नतिजा देखने मिल रहा है ऐसा वे कहने लगे। ठिक उसी प्रकार अब शिवसेना में वरिष्ठ स्तर पर शिवसैनिक भाजपा की राजनैतिक चालों के बारे में वरिष्ठ स्तर पर खबर दे रही है, क्योंकि जहां एक तरफ केंद्र और राज्य में भाजपा और शिवसेना पार्टी गठबंधन सरकार बनाए है वहीं दुसरी ओर शिवसेना के गडकिले को चैनेंज करने की कोशिश करने के लिए भारतीय जनता पार्टी नये नये पैंतरे आजमा रही है। इससे शिवसेना के पदाधिकारी, नेता, कार्यकर्ता काफी खफा है।


    दरअसल, राष्ट्रवादी से भारतीय जनता पार्टी में प्रवेश करनेवाले गणेश नाईक एक नामी हस्ती है। उनके पिछे नवी मुंबई के 50 से भी ज्यादा राष्ट्रवादी के नगरसेवक चट्टान की तरह उनके समर्थक बने खडे है। साथ ही नवी मुंबई शहर के साथ साथ ठाणे में भी गणेश नाईक को माननेवाला एक बहुत बडा वर्ग है ऐसे में भारतीय जनता पार्टी ने नाईक का पॉलिटिकल पावर देखते हुए उन्हे पार्टी में प्रवेश करने के लिए लाल कालिम तक बुधवार को बिछाएंगे।
    गौरतलब हो कि, मुख्यमंत्री बनने का सपना देखनेवाले स्वास्थ्य मंत्री और शिवसेना के ठाणे जिला अध्यक्ष एकनाथ शिंदे को सिधी टक्कर देने के लिए गणेश नाईक को भारतीय जनता पार्टी में प्रवेश देने की यह एक बहुत बडी चाल वरिष्ठ स्तर पर भाजपा कर रही है ऐसी चर्चा है। इस बात का वक्त रहते शिवसेना के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं को अब पता चलने से शिवसेना ठाणे जिल्हा के सभी इलाकों से भारतीय जनता पार्टी का कडा विरोध कर रही है। वही कुछ शिवसैनिक यह तक कह रहे है कि, राष्ट्रवादी के नेताओं को भ्रष्टाचारी नेता कहनेवाले भारतीय जनता पार्टी आज उन्ही के पार्टी में राष्ट्रवादी के कई उम्मीदवारों को प्रवेश दे रही है। अब कहा गई भारतीय जनता पार्टी का पारदर्शक सरकार का एजंडा।


    जहां शिवसेना भारतीय जनता पार्टी का जोरदार विरोध कर गणेश नाईक के पार्टी प्रवेश से खफा है वहीं शिवसेना के मुंबई के कुछ पदाधिकारी भारतीय जनता पार्टी के इस निर्णय से बेहद खुश है। खुशी मनाने वाला शिवसेना पार्टी का यह ग्रुप एकनाथ शिंदे का विरोध करनेवाला ग्रुप भी माना जाता है।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad