Header Ads

  • ताजा खबरें

    रत्नागिरी के जैतापूर सरकारी अस्पताल में सुविधाओं के अभाव से मरिज परेशान

    Ratnagiri (Maharashtra Development Media) - Patients are not being treated properly due to lack of facilities in the primary health center of Jaitapur village in Rajapur taluka of Ratnagiri. Whenever the patient comes to this health center for treatment, the doctor is not present in the health center. Many times patients have to wait for hours, but doctors come to their own accord. Because of this, the marriage of Jaitapur village to go to the government hospital for treatment has come twice now.  Despite complaining to the citizens of Jaitapur village many times about this problem, to this day, the primary health center is not functioning according to the rules, the patients are not getting well treatment. Due to the doctors coming here voluntarily, the patients, especially the needy, have to undergo treatment at a private hospital.  Towards this health center of Jaitapur village, now the health minister of Maharashtra state Eknath Shinde should pay attention so that doctors and nurses work properly in this hospital and patients can get treatment.  Residents of the village have even informed about this health center that injection of rabies, tetanus as well as other needy and emergency patients into this hospital is not available at this time. After this, doctors here advise patients to take injections in private hospital. In this way, in this government hospital of Jaitapur village, doctors are advised to go to private hospital instead of undergoing treatment in government hospital to provide treatment to the economically poor and needy patients.
    रत्नागिरी (महाराष्ट्र विकास मिडिया)- रत्नागिरी के राजापूर तालुका स्थित जैतापूर गांव के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में सुविधाओं के अभाव के कारण मरिजों का ठिक तरह से इलाज नहीं हो रहा है। इस स्वास्थ्य केंद्र में जब भी मरिज उपचार हेतु आता है उस वक्त स्वास्थ्य केंद्र में डॉक्टर उपस्थित नही होते है। कई बार मरिजों को घंटों तक इंतजार करना पडता है लेकिन डॉक्टर अपने मर्जी से आते है। इसके कारण सरकारी अस्पताल में उपचार हेतु जाने के लिए जैतापूर गांव के मरिज अब दो बार सोचने की नौबत आई है।
    इस समस्या को लेकर कई बार जैतापूर गांव के नागरिकों ने शिकायत करने के बाद भी आज तक इस प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में नियमों के अनुसार काम नहीं हो रहा है, मरिजों को अच्छे तरिके से उपचार नहीं मिल रहा है। डॉक्टर यहां पर अपने मर्जी से आने जाने के कारण मरिजों को खासकर जरुरतमंद गरिब मरिजों को प्रायव्हेट अस्पताल में अपना इलाज कराना पड रहा है। 
    जैतापूर गांव के इस स्वास्थ्य केंद्र की ओर अब महाराष्ट्र राज्य के आरोग्य मंत्री एकनाथ शिंदे ने गौर फरमाना चाहिए जिससे इस अस्पताल में डॉक्टर एवं नर्स ठिक तरिके से काम करें और मरिजों को उपचार मिल सके।
    गांव के रहिवासीयों ने इस स्वास्थ्य केंद्र के बारेमें यहां तक बताया कि, इस अस्पताल में रेबिस, टिटनस साथ ही अन्य जरुरतमंद एवं आपात समय में मरिजों को देनेवाले इंजेक्शन समय पर उपलब्ध नहीं होता है। जिसके बाद यहां के डॉक्टर खुद प्रायव्हेट अस्पताल में इंजेक्शन लेने की सलाह मरिजों को देते है। इस तरह जैतापूर गांव के इस सरकारी अस्पताल में डॉक्टरों द्वारा आर्थिक रुप से गरिब एवं जरुरतमंद मरिजों को अपना इलाज कराने के लिए सरकारी अस्पताल में उपचार कराने के बजाय प्रायव्हेट अस्पताल में जाने की सलाह दी जाती है।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad