Header Ads

  • ताजा खबरें

    सांसद और विधायक महोदय : बदलापूर प्लेटफार्म पर यात्रीयों के लिए बने झोपडीरुपी बेंचपर कुछ समय तो गुजारिये

    Badlapur (Maharashtra Development Media) - For the last several years, Congress and more recently Bharatiya Janata Party candidate became MP in the Bhiwandi Lok Sabha constituency, but nobody seriously tried to solve the problems of Badlapur Rail Travelers. Is. Platform No. of Badlapur Railway Station The slums and benches on the slopes 1 and 2 are of no use, and now the passengers are upset. Troubled by the problems now, the people of Badlapur and the people of Badlapur are commenting on the administration and the ruling party through this hashtag 'MP_Victor_Kuch_Sometimes_ToGuzaro_Badlapur_station_paper' on social media.  Let us say that because of the Modi wave in the 2014 Lok Sabha, the voters of Badlapur cast their vote for Bhiwandi Lok Sabha candidate Kapil Patil of the Bharatiya Janata Party and they reached the Lok Sabha as an MP with heavy votes. But he did not suffer for the entire 5 years at that time, knowing the problem of Badlapur railway passengers, did not even reach Dur Badlapur railway station. Due to which, the voters of Badlapur in the 2019 Lok Sabha elections were very angry at the current MP.  In fact, the passengers at Badlapur Railway Station were not getting many facilities. At the same time, passengers are facing a lot of problems in daily commuting due to misplaced elevators. Rail administration and MP Kapil Patil were unsuccessful in placing ceiling letters on the Badlapur Railway platforms 1 and 2 from the beginning to the end. FOB's direction of Karjat Even at that time, MP Kapil Patil did not think it appropriate to construct a new bridge by dropping the bridge. Due to which, the passengers of Badlapur had decided not to vote for Kapil Patil in the 2019 Lok Sabha elections, but at the same time to give a big round of assurances to the voters, Badlapur's MLA Kisan Kathore appeared at the Badlapur Railway Station. He gave a long assurance and again, once again chanting slogans of the Modi government, Kapil Patil said that this time all the problems of Badlapur rail passengers will be solved. At the same time, the home platform was made in a week as soon as the election was over. After which, reliance on MLA Kathore, Railway passengers of Badlapur won the Kapil Patil and MP again with heavy votes, but the train of development of BJP has not reached Badlapur railway station so far. The assurances given to the passengers by MP Kapil Patil, MLA Kisan Kathore and some BJP corporators were just a jumble, some voters in Badlapur believe. After this, the voters of Badlapur and the train passengers on social media started a strong protest against the ruling party. Railway administration has seen the opposition of the platform no. Instead of doing all the work of the roof pretending to fulfill the assurance on 1-2, instead of just two slum huts, put a small bench and a small roof on it. This kind of work - directly by the ruling party and the railway administration - made fun of the passengers. After this work, people started commenting on social media once again against the ruling party, MP Kapil Patil, MLA Kisan Kathore and the railway administration.  Recently, some travelers from Badlapur have now appealed to MPs who gave big assurances to the voters and propagandist Kisan Kathore, who campaigned in their election, said that they spent some time on the Badlapur Railway platform, on the Rupi Bench. How will the passengers get tired of sitting on this bench in the sunshine, Barish as well as standing around the bench. They have to face MLAs and MPs also know how to go from Badlapur to Mumbai every day when a traveler travels by rail to Badlapur, facing many problems every day. Just like the event once in 5 years, MLA Kisan Kathore at Badlapur Railway Station will bring his party candidate and current MP Kapil Patil to the station where he will hand over the passengers and pretend to know about the problem. Traveling from Mumbai to Rail will preach their election and for the rest of 1824, the passengers will be facing a thousand problems. When will the resident will do this?  On social media, now some vigilant people have tried to awaken the administration and the ruling party from the condemnation of Kumbhakarna by means of this hashtag 'MP_Vikas_Kuchi_Guizaro_Badlapur_ Station_par.'
    बदलापूर (महाराष्ट्र विकास मिडिया)- पिछले कई सालों से कांग्रेस और हालही में भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार भिवंडी लोकसभा क्षेत्र में सांसद बने लेकिन किसी ने भी गंभिरतापूर्वक बदलापूर रेल यात्रीयों की समस्याओं को सुलझाने की कोशिश नहीं की ऐसा बदलापूर रेल यात्रीयों का सिधा सिधा आरोप है। बदलापूर रेल्वे स्टेशन के प्लेटफार्म क्र. 1 और 2 पर लगाये हुए झुग्गीझोपडी रुपी बेंच और छप्पर कुछ काम का नहीं है जिसके चलते अब यात्रीगण खफा है। समस्याओं से परेशान होकर अब यात्रीगण और बदलापूर की जनता सोशल मिडिया पर '#सांसद_विधायक_कुछ_समय_तो_गुजारो_बदलापूर_स्टेशन_पर' इस हैशटैग के जरिए प्रशासन और सत्तापक्ष पर टिप्पणी कर रही है।
    बता दें कि, 2014 के लोकसभा में मोदी लहर की वजह से बदलापूर के मतदाताओं ने भारतीय जनता पार्टी के भिवंडी लोकसभा के उम्मीदवार कपिल पाटील को अपना वोट दिया और वे भारी मतों से सांसद के रुप में लोकसभा में पहुंच गये। लेकिन उन्होंने उस वक्त पुरे 5 साल तक बदलापूर रेल यात्रीयों की समस्या जानना तो दुर बदलापूर रेलवे स्टेशन तक नहीं की भी तकलिफ नहीं उठाई। जिसके कारण 2019 के लोकसभा चुनाव में बदलापूर के मतदाता वर्तमान सांसद पर काफी खफा थे।
    दरअसल, बदलापूर रेल्वे स्टेशन पर यात्रीयों को कई तरह की सुविधाएं अब तक मिल नही रही। साथ ही इलिव्हेटर भी गलत जगह पर लगाने से यात्रीयों को हर रोज आवागमन में काफी दिक्कतों का सामना करना पड रहा है। बदलापूर रेल्वे प्लेटफार्म 1 और 2 पर तो शुरु से आखरी तक सिमेंट के पत्रों की छत तक लगाने में रेल प्रशासन और सांसद कपिल पाटील असफल रहे। कर्जत के दिशा का एफ.ओ.बी. पुल को गिराकर नये पुल के निर्माण के लिए भी उस वक्त सांसद कपिल पाटील ने सोचना भी मुनासिब नहीं समझा। जिसके कारण बदलापूर के यात्रीयों ने 2019 के लोकसभा चुनाव में कपिल पाटील को वोट ना देने का फैसला किया था, लेकिन उसी वक्त मतदाताओं को बडे बडे आश्वासनों का गोलगप्पा खिलाने बदलापूर के आप्पा विधायक किसन कथोरे बदलापूर रेल्वे स्टेशन पर प्रकट हुए। उन्होंने लंबे लंबे आश्वासन देते हुए फिर एक बार मोदी सरकार का नारा लगाते हुए कपिल पाटील इस बार बदलापूर रेल यात्रीयों की सारी समस्याओं का निराकरण करेंगे ऐसा कहा। साथ ही होम प्लॅटफार्म तो बस चुनाव खतम होते ही एक हफ्ते में बन ही गया समझों ऐसा कहा। जिसके बाद विधायक कथोरे पर भरोसे करते हुए बदलापूर के रेल्वे यात्रीयों ने मतदाताओं ने भारी मतों से फिर एक बार कपिल पाटील को जिताया और सांसद बनाया, लेकिन भाजपा की विकास की ट्रेन अब तक बदलापूर रेल्वे स्टेशन नहीं पहुंची यह बडे ही दुख की बात हैं। यात्रीयों को जो आश्वासन सांसद कपिल पाटील, विधायक किसन कथोरे और कुछ भाजपा नगरसेवकों ने दिया था वह सिर्फ एक जुमला निकला ऐसा बदलापूर के कुछ मतदाताओं का मानना है। इसके बाद सोशल मिडिया पर बदलापूर के मतदाताओं ने और रेल यात्रीयों ने सत्तापक्ष का जोरदार विरोध शुरु किया। जनता का कडा विरोध देख रेल प्रशासन ने बदलापूर के प्लॅटफार्म क्र. 1-2 पर आश्वासन को पुरा करने का दिखावा करते हुए छत का पूरा काम करने के बजाय सिर्फ दो झुग्गी झोपडियों के रुप में छोटी बेंच और उसपर छोटासा छप्पर लगाया। इस तरह का काम यानी सिधे तौर पर सत्तापक्ष और रेल प्रशासन ने यात्रीयों का मजाक उडाया था। इस काम के बाद सोशल मिडिया पर फिर एक बार सत्तापक्ष, सांसद कपिल पाटील, विधायक किसन कथोरे और रेल प्रशासन के खिलाफ लोगों ने टिप्पनी करना शुरु किया।


    हालही में बदलापूर के कुछ यात्रीनों ने अब मतदाताओं को बडे बडे आश्वासन देनेवाले सांसद कपिल पाटील और उनका चुनाव में प्रचार करनेवाले विधायक किसन कथोरे को आवाहन किया है कि वे कुछ समय तो गुजारे बदलापूर रेल्वे प्लॅटफार्म पर बने झुग्गी झोपडी रुपी बेंच पर, तब उन्हे पता चलेगा कि किस प्रकार यात्रीयों को धुप, बारीश में इस बेंच में बैठनेपर साथ ही बेंच के आस पास खडे रहने पर भी कितनी सारी दिक्कतों का सामना करना पडता है। विधायक और सांसद को भी तो पता चले कि किस प्रकार बदलापूर से हररोज मुंबई जाने के लिए जब यात्री बदलापूर में हररोज कई सारी समस्याओं को फेस करते हुए रेल की यात्रा करते है तब उनकी क्या हालत होती है। सिर्फ 5 साल में एक बार इव्हेंट की तरह बदलापूर रेल्वे स्टेशन पर विधायक किसन कथोरे अपने पार्टी के उम्मीदवार और वर्तमान सांसद कपिल पाटील को स्टेशन पर लेकर आएंगे वहां पर यात्रीयों को हस्तांदोलन करेंगे और समस्या जानने का नाटक करते साथ ही भिड नहीं होनेवाले समय पर बदलापूर से मुंबई की रेल यात्रा कर अपना चुनाव प्रचार करेंगे और बाकी के 1824 दिन यात्रीगण हजार दिक्कतों का सामना करते हुए रेल यात्रा करेंगे ऐसा कब तक चलेगा? 


    सोशल मिडिया पर तो अब कुछ जागृक लोगों ने '#सांसद_विधायक_कुछ_समय_गुजारो_बदलापूर_ स्टेशन_पर' इस हैशटैग के जरिए प्रशासन और सत्तापक्ष को कुंभकर्ण की निंद से जगाने की कोशिश की है।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad