Header Ads

  • ताजा खबरें

    बदलापूर ही नहीं उल्हासनगर में भी भ्रष्टाचार की खबरों को इनकैश करते थे झी24तास न्युज चैनल के बदलापूर प्रतिनिधी चंद्रशेखर भुयार?

    उल्हासनगर के वरिष्ठ समाजसेवक दिलीप मालवनकर ने लगाया आरोप


    Ulhasnagar (Maharashtra Development Media) - Recently, in Badlapur, due to an altercation in the office, in the wake of the breakdown of the office, Zee 24 Tas Media's Badlapur representative Chandrashekhar Bhuyar and his disciples flopped their efforts not to make the incident public. Later, the people of Badlapur city and whichever Zee 24 Tas News channels were angry at such journalists.  After this, Badlapur Vikas, a local newspaper of Badlapur, revealed how the journalists like Chandrashekhar Bhuyar in Badlapur city do not send the news to the channel groups to telecast the main news about their disciples. After this, in Badlapur city, there was a lot of condemnation of journalists who had inked the news. At the same time, in the city of Ulhasnagar, Chandrashekhar Bhuyar, in the same way, the incident of inking the news has come up.  Dilip Malvankar, a social worker from Ulhasnagar and a leader who raised voice against corruption, told Maharashtra Vikas how he felt the same bad experience of Zee 24 Tas Badlapur's representative. He said that he was trying to expose this corruption through his trust to expose the scandal of football match in Ulhasnagar municipality and to take strict action against the corruption mongers. Thinking that he would take the help of the media to inform the people of this corruption committed by the Umpa at that time, he contacted the Badlapur representative of Zee 24 Tas. Chandrashekhar Bhuyar brought his land, he took a byte, asked a lot of questions, asked about the confessions to be launched in the news channel by evening, but the news did not launch in the channel. The special thing is that, after that Chandrashekhar Bhuyar never met him nor did he ever give a reason for not publishing this news.  Let me tell you that in Ulhasnagar, Ambernath and Badlapur, many journalists who have been inking the news are seen by showing the name of big news channel brand like Chandrashekhar Bhuyar. The only job of these journalists is to search for breaking news, to get evidence of corruption and finally to collect money to print that news by looking at corrupt by corrupt officials, touts of corrupt administration and corrupt leaders. In this way, a few selected journalists of Ulhasnagar, Ambarnath and Badlapur are defaming the fourth pillar of Lokshahi by inciting the news in this way.  Significantly, in Badlapur and now Ulhasnagar, the people of Zhi 24 Taas News Channel have now questioned the representative of Zhi 24 Taas only to know what is in their channel's tagline one step ahead, in showing news to the observers or the main In incase the news. Today, Zee 24 Taas is a national level news channel in Badlapur and Ulhasnagar due to Pitt journalists like Chandrashekhar Bhuyar.
    उल्हासनगर (महाराष्ट्र विकास मिडिया)- हालही में बदलापूर में एक पार्टी में आपस भी भिडने से कार्यालय की तोडफोड की वारदात के बावजुद झी24तास मिडिया के बदलापूर प्रतिनिधी चंद्रशेखर भुयार और उनके चेले सपाटों ने इस वारदात को लोगों तक मिडियाद्वारा ना पहुंचाने का पुरा प्रयास किया जिसके बाद बदलापूर शहर की जनता और झी24तास न्युज चैनल देखनेवाले व्हिव्हर्स ऐसे पत्रकारों पर खफा हो गये।

    इसके बाद बदलापूर के एक स्थानिय अखबार दैनिक बदलापूर विकास ने बदलापूर शहर में चंद्रशेखर भुयार जैसे पत्रकार किस तरह अपने चेले चपाटों को लेकर मुख्य खबरों को टेलेकास्ट करने चैनल समुहों को ना भेजते हुए उस खबर की इनकैश कैसे करते है इसकी पोल खोल डाली। इसके बाद बदलापूर शहर में लोगों द्वारा खबरों को इनकैश करनेवालों पत्रकारों की घोर निंदा होने लगी। इसी दौरान अब उल्हासनगर शहर में भी चंद्रशेखर भुयार ठिक इसी प्रकार से खबरों को इनकैश करने की वारदात सामने आई है।


    उल्हासनगर के समाजसेवक और भ्रष्टाचार के खिलाफ आवाज उठानेवाले नेता दिलीप मालवनकर ने महाराष्ट्र विकास को बताया कि किस तरह झी24तास के बदलापूर के प्रतिनिधी का ठिक इसी तरह का बुरा अनुभव उन्हें भी महसुस हुआ। उन्होंने बताया कि, उल्हासनगर महापालिका में फुटबॉल मॅच के घोटाले को एक्सोस करने के हेतुसे और भ्रष्टाचार करनेवालों के खिलाफ कडी से कडी कार्यवाही होने के लिए वे अपने ट्रस्ट के माध्यम से इस भ्रष्टाचार को एक्सोस करने का प्रयास कर रहे थे। उस वक्त उमपा द्वारा किये गए इस भ्रष्टाचार की जानकारी लोगों तक पहुंचाने के लिए वे मिडिया का सहारा लेते की सोचकर उन्होंने झी24तास के बदलापूर प्रतिनिधी से संपर्क किया। चंद्रशेखर भुयार अपना भूम लेकर आए, उन्होंने बाईट लिया कई सवाल पुछे प्रतिक्रिया ली, कबुतों को लेकर शाम तक खबर चैनल में प्रक्षेपण किया जाएगा ऐसा कहा लेकिन खबर तो चैनल में प्रक्षेपण ही नहीं हुआ। विशेष बात तो यह है कि, उसके बाद चंद्रशेखर भुयार कभी उन्हे मिले नहीं और ना ही कभी उन्होंने इस न्युज के ना छपने का कारण बताया।


    बता दें कि, उल्हासनगर, अंबरनाथ और बदलापूर में चंद्रशेखर भुयार जैसे बडे न्युज चैनल ब्रैंड का नाम दिखाकर न्युज को इनकैश करनेवाले कई पत्रकार देखने को मिलते है। इन पत्रकारों का सिर्फ एक ही काम होता है, ब्रेकिंग न्युज की खोज करना, भ्रष्टाचार के पुक्ते सबुत हासिल करना और आखिर में उस बाईट को भ्रष्टाचारीयों को, भ्रष्ट प्रशासन के दलालों को और भ्रष्ट नेताओं को देखाकर न्युज न छापने के लिए पैसे वसुल करना। इस प्रकार उल्हासनगर, अंबरनाथ और बदलापूर के कुछ गिने चुने पत्रकार लोकशाही के चौथे स्तंभ को इस तरह खबरों को इनकैश कर बदनाम कर रहे है।


    गौरतलब हो कि, बदलापूर और अब उल्हासनगर में झी24तास न्युज चैनल के इस प्रतिनिधी के करतूत को देखते लोगों ने अब सिधे सिधे झी24तास से ही सवाल किया है कि वे अपने चैनल के टैगलाईन एक कदम आगे किस में है, प्रेक्षकों को खबर दिखाने में या मुख्य खबरों को इनकैश करने में। चंद्रशेखर भुयार जैसे पित्त पत्रकारों के कारण आज बदलापूर और उल्हासनगर में झी24तास एक राष्ट्रीय स्तर का न्युज चैनल बदनाम हो रहा है।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad