Header Ads

  • ताजा खबरें

    बदलापूर में तुकाराम म्हात्रे ने शिवसेना नगरसेवक शैलेश वडनेरे के ऑफिस कि तोडफोड की

    Badlapur (Maharashtra Development Media) - The Mhatre family of Badlapur have once again come into the limelight in the city of Badlapur to spread their horror. WADWALI DIVISION 1's Shiv Sena party corporator Tukaram Mhatre, along with some of his goons, broke the office of his party corporator Shailesh Vadnere in Badlapur East Dattwadi. Shiv Sena corporator Shailesh Vadnere is now writing a report against Tukaram Mhatre and other criminals in Badlapur East police station.  In fact, Shailesh Kesarinath Vadnere, who is a corporator of Shiv Sena party in Kulgaon Badlapur municipality and has also been the chairman, is keen to contest the election of MLA in the upcoming Murbad assembly. For the last few years, they have been increasing their public relations by strengthening the strength of Shiv Sena party in Murbad and Badlapur. Vadnere will stand in the election of the upcoming MLA, angry that Tukaram Barku Mhatre, who is called his party corporator and a goon in Badlapur, along with some of his goons broke the Vadnere office.  Let me tell you, Tukaram Mhatre and his Mhatre family have been famous for the past several years due to panic in Badlapur city. He took T.D.R. in Badlapur. A senior journalist of the local newspaper, who was publishing the news against the scam and the ongoing corruption in the local Kulgaon Badlapur municipal administration, had also scrambled to take the law on the middleman. Also, the journalist's four-wheeler Honda Amaze vehicle was also lit by Tukaram Mhatre and his goons. Tukaram Mhatre stayed in so much that he kidnapped the owner of the local newspaper and beaten him mercilessly. In this way, journalists, from leaders of political parties to the general public, are intimidated by Tukaram Mhatre and his Paleo goons and thus create panic in the city. But the police of Badlapur West and Badlapur East have not been seen doing any kind of action against Tukaram Mhatre and his Palehoo goons who took the law in this way, but the police of Badlapur are always engaged in suppressing the crime, according to the Sutras .  Tukaram Mhatre Local protestor Mahesh Kamat had protested against this goon political in Badlapur for the past several years. Mahesh Kamat began to improve Tukaram Mhatre to such an extent that ultimately the Deputy Commissioner of Police, Ambarnath, assisted police, filed a case against Tukaram Mhatre and his goons. Even after the case of Chaptar, today Badlapur city is openly taunting the Tukaram Mhatre law, due to which now the citizens of Badlapur are demanding to take action against Tukaram Mhatre.
    बदलापूर (महाराष्ट्र विकास मिडिया)- बदलापूर का म्हात्रे परिवार फिर एक बार बदलापूर शहर में अपनी दहशत फैलाने की वारदात में चर्चा में आए है। वडवली प्रभाग क्र. 1 का शिवसेना पार्टी का नगरसेवक तुकाराम म्हात्रे ने अपने कुछ गुंडों के साथ मिलकर बदलापूर पूर्व दत्तवाडी में उन्ही के पार्टी के नगरसेवक शैलेश वडनेरे के ऑफिस की तोडफोड की है। शिवसेना नगरसेवक शैलेश वडनेरे अब बदलापूर पूर्व पुलिस थाने में तुकाराम म्हात्रे और अन्य अपराधीयों के खिलाफ रिपोर्ट लिखा रहे है।


    दरअसल, शैलेश केसरीनाथ वडनेरे जो कि कुलगांव बदलापूर नगरपालिका में शिवसेना पार्टी के नगरसेवक है और सभापती भी रह चुके है आनेवाले मुरबाड विधानसभा में विधायक का चुनाव लढने को इच्छुक है। पिछले कुछ सालों से वे मुरबाड और बदलापूर में शिवसेना पार्टी की निंब मजबुत करते हुए अपना जनसम्पर्क बढा रहे है। आनेवाले विधायक के चुनाव में वडनेरे खडे होंगे इस बात पर गुस्सा आने से उन्ही के पार्टी के नगरसेवक और बदलापूर में गुंडा कहलाए जानेवाला तुकाराम बारकु म्हात्रे ने अपने कुछ गुंडों के साथ मिलकर वडनेरे के ऑफिस की तोडफोड की है।


    बता दें कि, तुकाराम म्हात्रे और उनका म्हात्रे परिवार पिछले कई सालों से बदलापूर शहर में दहशत फैलाने के कारण कुप्रसिद्ध रह चुके है। उन्होंने बदलापूर में टी.डी.आर. घोटाला और स्थानिय कुलगांव बदलापूर नगरपालिका प्रशासन में चल रहे भ्रष्टाचार के खिलाफ में खबर छापनेवाले स्थानिय अखबार के वरिष्ठ पत्रकार को भी बिचचौराहे पर कानून हाथ में लेते हुए हाथापाई की थी। साथ ही पत्रकार की फोर व्हिलर होंडा अमेज गाडी भी तुकाराम म्हात्रे और उनके गुंडों ने मिलकर जलाई थी। तुकाराम म्हात्रे इतने में रही रुके उन्होंने उक्त स्थानिय अखबार के मालिक का अपहरण कर बेदर्दी से पिटा भी था। इस तरह पत्रकार, राजनैतिक दलों के नेताओं से लेकर आम जनता को तुकाराम म्हात्रे और उनके पालेहुए गुंडे डराते है पिटने है और शहर में इस तरह दहशत फैलाते है। लेकिन इस तरह कानून हाथ में लेनेवाले तुकाराम म्हात्रे और उनके पालेहुए गुंडों के खिलाफ बदलापूर पश्चिम और बदलापूर पूर्व पुलिस किसी भी प्रकार की कार्यवाही करते कबी नजर नहीं आई है, बल्कि वारदात को दबाने में बदलापूर की पुलिस हमेशा लगी रहती है ऐसा सुत्रों का कहना है।


    तुकाराम म्हात्रे इस गुंडे राजनैतिक के खिलाफ बदलापूर में स्थानिय पत्रकार महेश कामत ने पिछले कई सालों से जोरदार विरोध प्रदर्शऩ किया था। महेश कामत इस हद तक तुकाराम म्हात्रे को सुधारने में लग गये कि आखिरकार अंबरनाथ विभाग के सहाय्यक पुलिस उपायुक्त ने तुकाराम म्हात्रे और उनके गुंडों के खिलाफ चाप्टर केस दर्ज किया। चाप्टर केस होने के बाद भी आज बदलापूर शहर में खुलेआम तुकाराम म्हात्रे कानून को तारतार कर रहा है जिसके चलते अब तुकाराम म्हात्रे पर तडीपार की कार्यवाही करने की मांग बदलापूर के नागरिक कर रहे है।

    No comments

    Post Top Ad

    Post Bottom Ad